गोरखनाथ मंदिर में PAC जवानों पर हमले की जांच ATS के जिम्मे

राष्ट्रीय

जिस गोरखनाथ पीठ के पीठाधीश्वर सीएम योगी हैं, उस मंदिर में रविवार की शाम हमले की कोशिश की गई। मुंबई से आए एक युवक ने मंदिर में जबरन घुसने का प्रयास किया। सुरक्षा में तैनात पीएसी के जवानों को शक हुआ तो उसे रोका। युवक ने गमछे में धारदार हथियार लपेटकर रखा था। उसने हथियार निकालकर जवानों पर हमला कर दिया।

इस हमले में पीएसी के 2 जवान घायल हुए हैं। दोनों जवानों के पैर में गंभीर चोटें आईं जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। हमले के बाद मंदिर के कर्मचारियों और भीड़ ने आरोपी को पकड़कर पीटा।उधर, बड़ी आतंकी साजिश की आशंका को देखते हुए ATS ने जांच शुरू कर दी है।

आरोपी गोरखपुर का रहने वाला है। उसका नाम अहमद मुर्तजा अब्बासी है। वह केमिकल इंजीनियर है। हमले के पीछे अहमद की मंशा क्या थी? इसका पता लगाया जा रहा है। शहर के अब्बासी नर्सिंग होम में पुलिस आरोपी के परिवार वालों से पूछताछ कर रही है।

एसएसपी डॉ. विपिन ताडा ने बताया कि देर रात ATS ने जांच की कमान संभाल ली है। ATS और पुलिस टीम हमलावर अहमद मुर्तजा अब्बासी के घर पहुंची और उसके पिता और अन्य परिवार वालों से पूछताछ शुरू की। ATS उसका विदेशी कनेक्शन भी तलाश रही है। वह पता कर रही है कि आरोपी के पास पासपोर्ट था या नहीं। कभी वह विदेश गया था या ​नहीं। साथ ही उसके मोबाइल और लैपटाप के IP एड्रेस से विदेशी लोगों से बातचीत या फंडिग आदि की जांच कर रही है।

ATS जांच कर रही है कि कहीं इसमें आतंकी कनेक्शन तो नहीं है। 20 साल पहले गोलघर में सीरियल ब्लास्ट हो चुका है, जिसमें आतंकी संगठनों का नाम आया था। गोरखपुर और गोरखनाथ मंदिर सीएम का क्षेत्र होने के नाते हमेशा निशाने पर रहता है। सीएम अक्सर मजबूत कानून व्यवस्था और एक भी दंगा न होने का जिक्र करते रहते हैं, इसलिए आतंकियों का प्लान राज्य के लॉ एंड ऑर्डर को बिगाड़ने का है। बता दें कि योगी के शपथ ग्रहण के ही दिन गोरखपुर के चौरीचौरा में उपद्रव कराकर दंगा कराने की साजिश भी रची गई थी।