कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के बयान पर सीएम योगी का पलटवार, कहा- गर्व से कहो हम हिंदू हैं

राष्ट्रीय

यूपी में विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी जन विश्वास यात्रा निकाल रही है. इसके तहत अमेठी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में राहुल गांधी के महात्मा हिंदू थे और गोडसे हिंदूवादी… के जवाब में कहा कि हम लोगों में कोई छुपाव नहीं है, कोई घबराहट भी नहीं है. जब मुख्यमंत्री नहीं थे तब भी कहते थे, आज भी कहते हैं, आगे भी कहेंगे कि गर्व से कहो हम हिंदू हैं.

सीएम योगी ने कहा कि देश में सांप्रदायिकता विरोधी कानून लाकर इस देश के हिन्दुओं को कैद करना चाहते थे और जब कोई चुनाव आता था तब ये निकल पड़ते थे हिंदू बनने. जिनके पूर्वज कहते थे हम तो एक्सीडेंटली हिंदू हैं, वो लोग अपने को हिंदू नहीं बोल सकते.

कोरोना काल में सपा, कांग्रेस, बसपा का कोई भी कार्यकर्ता, कोई नेता, कोई जन प्रतिनिधि जनता के बीच नहीं था. योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार का बुलडोजर जब चलता है, तो समाजवादी पार्टी के बबुआ को बुरा लगता है, भाई और बहन को बुरा लगता है.

इस दौरान केंद्रीय मंत्री और अमेठी सांसद स्मृति ईरानी ने कहा कि जो दंभ भरते हैं रिश्तों का, जो दुहाई देते हैं महिला होने की. 50 साल आपका एकक्षत्र राज रहा, इस जनपद में ढाई लाख बहने ऐसी थीं, जिनके पास कभी डॉक्टर के पास इलाज कराने का पैसा नहीं था. आप एक जनपद को अच्छे स्वास्थ्य की सुविधा नहीं दे पाए और आज उत्तर प्रदेश को झूठे वादे देने का पाप कर रहे हैं. अमेठी को अंधकार में रखने का अपराध उस एक परिवार ने अकेले नहीं किया, हाथ ने साइकिल को थामा और साइकिल ने हाथी पर चढ़कर अमेठी के सपनों का तिरस्कार किया.

अमेठी में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कुछ लोग छापेमारी को लेकर चुनाव आयोग से हस्तक्षेप की मांग करने की बात रहे हैं. इससे साफ जाहिर होता है कि चोर की दाढ़ी में तिनका है. तभी वह कह रहे हैं कि चुनाव के बाद छापेमारी की जाए. इस दौरान सीएम योगी ने अपने कार्यकाल में किए गए विकास काम भी गिनाएं. बता दें कि सीएम अमेठी में राजकीय मेडिकल कॉलेज के शिलान्यास तथा 200 बेड युक्त जिला स्तरीय चिकित्सालय, तिलोई के लोकार्पण में शामिल होने आए थे.

कोरोना काल में यूपी पहला राज्य था, जिसने भारतीय मजदूर संघ के साथ मिलकर हर श्रमिक को 2 लाख की सामाजिक सुरक्षा की गारंटी और 5 लाख के स्वास्थ्य बीमा का कवर देने की व्यवस्था बनाई. साथ ही कहा कि कोरोना काल में प्रदेश में 40 लाख कामगार और श्रमिक वापस आए थे, तो हमने कहा यह लोग उत्तर प्रदेश के हैं और यहीं कार्य करेंगे.

बता दें कि हाल ही में सपा नेताओं के घर पर छापेमारी की कार्रवाई हुई थी. जिसे लेकर सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा था कि वह राष्ट्रपति और चुनाव आयोग से मांग करेंगे कि वह इस तरह की कार्रवाई में हस्तक्षेप करें.

 

 

दिल्ली विधानसभा में आवारा गायों के मुद्दे पर चर्चा AAP विधायक बोले- चुल्लू भर गोमूत्र में डूब जाएं BJP नेता