कोरोना के नए वैरिएंट XE ने गुजरात में दी दस्तक, बेहद संक्रामक है ये वायरस

राष्ट्रीय

कोरोना के नए वैरिएंट XE ने गुजरात में दस्तक दे दी है. वहां पर इस नए वैरिएंट के पहले मामले की पुष्टि हो गई है. इससे पहले मायानगरी मुंबई में भी इस वैरिएंट का एक मामला मिला था. इस वायरस को काफी संक्रामक माना जा रहा है, ऐसे में सरकार भी पूरी सावधानी बरत रही है.

गुजरात में जिस मामले की पुष्टि हुई है उसको लेकर बताया गया है कि 13 मार्च को शख्स कोविड पॉजिटिव निकला था. लेकिन एक हफ्ते बाद उसकी स्थिति ठीक थी. लेकिन जब सैंपल के नतीजे आए तो उसमें वो शख्स XE वैरिएंट से संक्रमित निकला. अब चिंता की बात ये है कि कोरोना का ये नया वैरिएंट सबसे ज्यादा संक्रामक बताया जा रहा है. BA.2 वाला जो वैरिएंट है, उसकी तुलना में XE वैरिएंट 10 फीसदी ज्यादा संक्रामक है.

XE वैरिएंट को लेकर क्या पता चला?

शुरुआती शोध के बाद कहा जा रहा है कि XE वैरिएंट, ओमिक्रॉन का ही सब वैरिएंट है. अभी तक इसे ज्यादा खतरनाक तो नहीं बताया जा रहा है, लेकिन कहा जा रहा है कि ये तेजी से फैल सकता है. अभी XE वैरिएंट के जो दो मामले सामने आए हैं, उनमें कोई गंभीर लक्षण नहीं दिखे हैं. इसी वजह से सरकार अभी पैनिक नहीं करने की अपील कर रही है.

एक्सपर्ट क्या कह रहे?

जॉन्स हॉपकिन्स के गुप्ता-क्लिंस्की इंडिया इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित एक पैनल चर्चा में वायरोलॉजिस्ट गगनदीप कांग ने कहा, ‘वैरिएंट्स आएंगे क्योंकि लोग अब यात्रा कर रहे हैं. जितना हम XE वैरिएंट के बारे में जान पाए हैं, यह चिंता का विषय नहीं है. हम BA.2 के बारे में चिंतित थे, लेकिन यह BA.1 से अधिक गंभीर नहीं निकला. XE वैरिएंट भी BA.1 या BA.2 (Omicron के सब वैरिएंट्स) से अधिक गंभीर बीमारी नहीं बनाता है.’

वैसे कुछ एक्सपर्ट ये जरूर कह रहे हैं कि कोरोना का कोई नया वैरिएंट नई लहर भी देश में ला सकता है. बस फर्क इतना हो सकता है कि वो ज्यादा घातक नहीं होगा और स्थिति बेकाबू नहीं होगी. जब देश में कोरोना की तीसरी लहर आई थी, तब भी स्थिति नियंत्रण में रही और दूसरी लहर जैसी तबाही देखने को नहीं मिली.