दिल्ली के शिक्षा मंत्री ने किया गुजरात के स्कूलों का दौरा, स्कूल में स्मार्ट बोर्ड देखकर बोले- ‘मजाक मत करो’

राष्ट्रीय

पंजाब में जबरदस्त जीत से उत्साहित आम आदमी पार्टी अब गुजरात में अपनी जड़ें जमाने की कोशिश कर रही है. राज्य में बीजेपी की सरकार है और AAP खुद को नए विकल्प के तौर पर रखी रही है. इसी एजेंडे के तहत पार्टी लगातार राज्य सरकार को घेर रही है.

सोमवार को दिल्ली के उपमुख्मंत्री और आप नेता मनीष सिसोदिया ने गुजरात के शिक्षा मंत्री जीतू वघानी के क्षेत्र में पहुंचे. सिसोदिया भावनगर पहुंचे और स्कूलों का दौरा किया.

शिक्षा मंत्री के क्षेत्र में बने स्कूलों में स्मार्ट बोर्ड देखने के बाद मनीष सिसोदिया ने कहा कि यह एक तरह का मजाक है. मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘मैं आज शिक्षा मंत्री के चुनाव क्षेत्र भावनगर में आया हूं. यहां के स्कूलों की दीवारें टूटी हुई हैं. मेरे आने से पहले स्कूलों के जाले और बाकी की साफ-सफाई करने की कोशिश की गई है, लेकिन हो नहीं पाया है.’

उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री के क्षेत्र के स्कूल में खुले में ही मिड-डे मील बन रहा है. क्लासेस भी रूम में नहीं बल्कि खुले में चल रही हैं. बच्चों के पास बैठने के लिए कोई फर्श भी नहीं है. चार स्मार्ट बोर्ड टांग कर वो कह रहे हैं कि हमारी शिक्षा व्यवस्था ऐसी हो गई है, यह एक तरह का मजाक है.’

दरअसल, इन दिनों आम आदमी पार्टी गुजरात सरकार को शिक्षा मॉडल और स्कूल के हालात पर घेरने की कोशिश कर रही है. इसकी बड़ी वजह ये भी है कि आप सरकार दिल्ली के शिक्षा मॉडल को हर जगह सामने रखती है और जमकर तारीफ करती है. सीएम अरविंद केजरीवाल भी शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को दिल्ली के स्कूलों की हालत सुधारने का क्रेडिट देते रहते हैं. अब सिसोदिया ही गुजरात के शिक्षा मॉडल पर निशाना साध रहे हैं.

गुजरात दौरे से पहले मनीष सिसोदिया ने कहा था, ‘बीजेपी ने 27 साल के शासन में गुजरात में कैसे सरकारी स्कूल बनाए हैं यह देखने आज गुजरात जा रहा हूं. दिल्ली में अगर अरविंद केजरीवाल केवल 5 साल में सरकारी स्कूलों की तस्वीर बदल सकते हैं तो बीजेपी को गुजरात में तो 27 साल मिले हैं…. देखते हैं आज …’