दुर्ग ने जीती कोरोना से जंग, जिले के सभी कोविड अस्पताल खाली

क्षेत्रीय

मंगलवार का दिन दुर्ग जिले के लिए काफी ऐतिहासिक रहा। आज के दिन पूरा जिला कोरोना से मुक्त रहा। संक्रमित सभी मरीज पूरी तरह से स्वास्थ्य होकर डिस्चार्ज हो गए। इस दिन न सिर्फ जिले के सभी कोविड अस्पतालों के बेड खाली हो गए, बल्कि नए केस भी नहीं मिले। इसके बाद भी जिला प्रशासन ने स्वास्थ्य विभाग और आम लोगों को सतर्कता बदलने की सलाह दी है और सभी लोगों को कोविड वैक्सीन की दोनो डोज लगवाने की अपील की है।

दुर्ग जिला पूरी तरह से कोरोना संक्रमण मुक्त हो गया है। 26 अप्रैल को जिले में एक भी कोरोना का नया मामला सामने नहीं आया। यही नहीं, दुर्ग जिले में एक्टिव मरीज भी शून्य हो गए हैं। अब कोविड अस्पताल में एक भी कोविड पेशेंट नहीं भर्ती है और न घर पर क्वारैंटाइन है। कोरोना की इस जंग में दुर्ग जिले की जीत हुई है। दुर्ग जिले में अब तक कोरोना की तीनों लहर में 10.75 लाख सैंपल लिए गए थे। इनमें से 1.16 लाख लोग संक्रमित पाए गए थे। इनमें 1800 संक्रमितों की मौत हुई थी।

आज भले ही दुर्ग जिले कोरोना मुक्त हो गया हो, लेकिन पुराना मंजर याद करते ही आज भी रूप कांप जाती है। दुर्ग ने वो दौर भी देखा है जब कोरोना से मरने वालों के आंकड़े सुनकर लोग दहशत में थे। कोरोना की दहशत से लोग अपनों की लाश छूने से भी पीछे हट रहे थे। इस महामारी में हर किसी ने अपना कोई न कोई खोया है। शासन प्रशासन की कड़ी मेहनत और लोगों की जागरूकता आज कोरोना पर विजय पाई है। कलेक्टर डॉ. एसएन भुरे का कहना है कि यह विजय तभी लंबी चलेगी, जब हम जागरूक रहेंगे। इसलिए हमें इसके प्रति हमेशा सतर्क रहना होगा।