छत्तीसगढ़ में पकड़ा गया ढाई करोड़ का गांजा

क्षेत्रीय

Chhattisgarh News: छत्तीसगढ़ में लगातार अवैध तस्करी होने का सिलसिला जारी है, लेकिन छत्तीसगढ़ पुलिस लगातार कार्यवाही भी कर रही है. छत्तीसगढ़ से होते हुए अन्य राज्यों में अवैध मादक पदार्थों की तस्करी करने से तस्कर बाज नहीं आ रहे हैं. इस बार धमतरी पुलिस ने अवैध गांजा की तस्करी करते हुए ढाई करोड़ का गांजा जप्त किया है. पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को भी गिरफ्तार किया है. आरोपी ट्रक में भरकर गांजे की तस्करी कर रहे थे.

छत्तीसगढ़ बॉर्डर से पकड़े गए तस्कर
दरअसल धमतरी पुलिस ने उड़ीसा और छत्तीसगढ़ के बॉर्डर पर नाकेबंदी पॉइंट लगाई हुई थी. उसी दरमियान राजस्थान नंबर की एक ट्रक आती हुई दिखाई दी, जिस पर पुलिस को संदेह हुआ. संदेह होने पर जब पुलिस ने ट्रक को रोककर तलाशी ली तो आरोपियों ने बड़े शातिराना ढंग से लगभग 10 क्विंटल से ज्यादा गांजे को ट्रक के अंदर छुपाया हुआ था. पुलिस ने तस्करों पर कार्रवाई करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही गांजे सहित ट्रक भी जप्त किया है. गांजे की कीमत लगभग ढाई करोड़ के आसपास बताई जा रही है.

जंगल में लोड किया गया गांजा
आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ में बताया कि आंध्र प्रदेश से एशियन पेंट ट्रक में लोड करके राजस्थान जा रहे थे. इसी दरमियान रास्ते में सालुर घाटी के पास रोड़ से 2 किलोमीटर अंदर जंगल में गांजा लोड करके राजस्थान जा रहे थे. धमतरी के एसपी प्रशांत ठाकुर ने बताया कि उड़ीसा और छत्तीसगढ़ के बॉर्डर पर चेकिंग पॉइंट लगाया गया था. इसी दरमियान एक ट्रक आता हुआ दिखाई दिया. पुलिस ने ट्रक को रोककर आरोपी गोपाल गुर्जर और प्रभु लाल गुर्जर से पूछताछ की तो उनकी गतिविधियां संदिग्ध लगी. पुलिस ने जब ट्रक की तलाशी ली तो तस्करों द्वारा शातिराना ठंग से ट्रक में छिपाए अवैध गांजे की 46 बोरियां ट्रक से मिलीं. जिसका कुल वजन 10 क्विंटल से अधिक है और उसकी कीमत लगभग ढाई करोड़ है. पुलिस ने इस मामले में नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई करते हुए ट्रक और गांजे को जप्त कर लिया है. साथ ही दो तस्करों को भी गिरफ्तार कर लिया मामले की जांच की जा रही है.