इस तरह बनाएं ‘धुँआरहित चूल्हा’,सबका ध्यान कर रहा आकर्षित…विडियो

रोचक

हर इंसान अपनी सोंच, हुनर और क्रिएटिविटी से तरह-तरह की आकर्षक चीजें बना रहा है। यह हुनर आपको शहर से लेकर गांव तक में देखने को मिलेगा। आज के इस पेशकश में हम आपको ईंट के टुकड़ों और सीमेंट के एक ऐसे मूवेबल चूल्हा बनाना सिखाएंगे जिसमें धुआं नहीं होता है।

इस चूल्हे को आप कहीं भी ले जा सकते हैं क्योंकि इसकी तली में चार पहिए लगे होते हैं। देखने में बेहद आकर्षक और लाभदायक यह चूल्हा किसी का भी ध्यान आकर्षित कर सकता है .

आवश्यक सामग्री

पॉलीथिन का चट,
बालू,
सीमेंट,
ईंट के टुकड़े,
छङ के 10 टुकड़े,
छङ के 6 टुकड़े,
बाल्टी,
कढनी,
ट्रॉली, इत्यादि

सबसे पहले हम एक पॉलिथीन की मैट बिछा लेते हैं अब उस पर सीमेंट बालू के पेस्ट को गोल की आकृति में एक से डेढ़ इंच की मोटाई में बिछा देते हैं अब उसी माप से आप उस पर से 3 लंबा और 3 चौड़ा छङ बिछा देते हैं इसके बाद उस पर से पुनः सीमेंट और बालू के एक-डेढ़ इंच का पेस्ट जमा देते हैं। अब हम चारों तरफ से माप कर इसमें चार ट्रॉली लगा देते हैं जिसे पेंच के माध्यम से कस दिया जाता है। अच्छी तरह सूखने के बाद अब हम इसे पलट देते हैं।

अब कटर के माध्यम से ईंट के आधे-आधे टुकड़े कर लेते हैं, साथ में कुछ समूची ईंट के भी टुकड़े लें। अब ट्रॉली लगे उस चाक पर हम आगे की ओर मुंह छोड़कर चारों तरफ सीमेंट और बालू के पेस्ट से ईट से घेरते हैं। वीडियो में आप देख सकते हैं कि पीछे की ओर एक वर्गाकार आकृति बनाकर ईंट लगाते हैं। ईंट की एक धारी आगे से पीछे की ओर लगाते हैं ताकि उस पर लोहे के झाड़ रखे जा सकते हैं। बीच वाले ईंट के घेरे पर हम अब लोहे की छड़ रख देते हैं इसके बाद पीछे की ओर वर्गाकार गड्ढा टाइप बनता है उसमें बालू भर देते हैं पुनः चारों तरफ खड़े ईंट व सीमेंट और बालू के पेस्ट से उसे घेरते हैं।

अब फिर से एक प्लास्टिक बिछाकर उस पर हम एक गोलाकार चक्के का निर्माण करते हैं बालू और सीमेंट के एक से डेढ़ इंच की परत बिछाते हैं उस पर से पुनः 3 लंबा और 3 चौड़ा छङ रखते हैं। इसके बाद हम उसके ऊपर से एक से डेढ़ इंच का सीमेंट और बालू का पेस्ट चढा देते हैं। इसके बाद आगे और पीछे की ओर बाल्टी की सहायता से दो गोल आकार रेखांकित कर लेते हैं और वहां पर का पेस्ट हटा देते हैं। गौरतलब हो कि यही दोनों गोलनुमा छेद चूल्हे का काम करेगा। अब इसे सूखने के लिए छोड़ दें।

अब ट्रॉली लगे उस आकृति पर चलते हैं जहां तक ईट लगाया जा चुका है। ईंट के खङे आकृति के बीच खड़े दरारों में हम बालू भर देते हैं। बालू भरने के बाद हम ऊपर से किनारों पर एक सीमेंट और बालू का पेस्ट डाल देते हैं ताकि अलग जो दो छेद किया हुआ चाक है उसे जमा सकें। अब चाक को इस पर लाकर रख दें। पीछे की ओर जो वर्गाकार आकृति बनी है उस पर हम चारों तरफ से ईंट अंदर की ओर दबाकर लगाते हैं ताकि दो धारी ईंट लगाकर उसका मुंह बंद हो जाए।

अब हम इस चूल्हे को सूखने के लिए छोड़ देते हैं। ईंट, बालू और सीमेंट से बना यह चूल्हा बनकर तैयार हो चुका है। अब हम इसमें खाना पकाने के लिए लकड़ी के टुकड़ों का इंतजाम करें और खाना बनाना प्रारंभ करें।