सरकारी ऑफिस में अब 50 फीसदी कर्मचारी आएंगे…आदेश जारी

क्षेत्रीय

छत्तीसगढ़ के सरकारी ऑफिस में अब 50 फीसदी कर्मचारी आएंगे। अब तक सिर्फ एक तिहाई कर्मचारी ही ऑफिस से काम कर रहे थे। सरकार ने मंत्रालय में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगाई थी, जो जारी रहेगी। इधर, छत्तीसगढ़ में कोरोना की तीसरी लहर हर दिन गंभीर मरीजों की जान ले रही है। शुक्रवार को कोरोना से 11 मरीजों की मौत हुई। इसको मिलाकर तीसरी लहर के 34 दिनों में जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 212 हो गई है। इनमें से करीब 35% लोग ऐसे थे जिन्हें कोई गंभीर बीमारी नहीं थी।

पिछले डेढ़ सप्ताह से मौतों का आंकड़ा बढ़ा है। गुरुवार को प्रदेश भर में 19 मरीजों की मौत दर्ज हुई थी। उससे पहले भी एक दिन 19 मरीजों की मौत हुई। इनमें रायपुर और दुर्ग के तीन-तीन मरीज थे। राजनांदगांव, बेमेतरा, बलौदा बाजार, गरियाबंद और कांकेर के भी एक-एक मरीज की जान गई। मौतों की यह ऊंची दर तब है जब संक्रमण की दर लगातार घट रही है। जांच कराने वालों और पॉजिटिव आने वालों की संख्या में गिरावट दर्ज हो रही है।

प्रदेश में संक्रमण दर 10% से नीचे पहुंच गई है। शुक्रवार को संक्रमण दर 8.24% थी। विशेषज्ञों का कहना है कि मौत के आंकड़ों में बड़ी संख्या उन मरीजों की है जो किसी दूसरी बीमारी या दुर्घटना की वजह से अस्पताल पहुंचे। वहां एडमिशन से पहले उनका कोरोना टेस्ट हुआ तो वे पॉजिटिव पाए गए। उसके बाद उन्हें कोरोना वार्ड में शिफ्ट कर पहली इलाज किया जाता रहा। केवल कोरोना की वजह से गंभीर रूप से बीमार हुए लोगों की संख्या कम है। बताया जा रहा है, इनमें भी अधिकतर वे लोग हैं, जिन्होंने कोरोना के लक्षणों के बाद भी जांच और इलाज शुरू करने में देरी की। स्थिति गंभीर होने पर वे अस्पताल पहुंचे जहां पता चला कि उन्हें कोरोना है।