रिटायरमेंट पर टीचर ने गरीब बच्चों की पढ़ाई के लिए दान किए 40 लाख रुपए

राष्ट्रीय

जहां आज के समय लोग संपत्ति जोड़ने के लिए किसी भी हद तक जा रहे हैं. वहीं, आज भी ऐसे लोग हैं जो दूसरो के लिए जीते हैं. ऐसी ही एक मानवता की मिसाल मध्य प्रदेश के पन्ना में देखने को मिल रही है, जहां एक शिक्षक ने रिटायर होने के बाद मिलने वाली करीब 40 लाख रुपए की राशि गरीब बच्चो की शिक्षा हेतु दान कर दी है.

पन्ना जिले के संकुल केन्द्व रक्सेहा की प्राथमिक शाला खदिंया के सहायक शिक्षक विजय कुमार चंदसोरिया अब अपनी नौकरी से रिटायर हो गए हैं. रिटायरमेंट होते ही उन्होंने विद्यालय के बच्चों को बेहतर शिक्षा और बेहतर सुविधाओं के लिए अपने जीपीएफ फंड से मिलने वाली सारी राशि को दान करने की घोषणा की है. उन्होंने अपने जीवन काल मे कभी भी इस फंड से रुपये खर्च नहीं किए. लिहाजा उक्त राशि करीब चालीस लाख हो रही है, जिसे उन्होंने दान करने की घोषणा कर दी है.

खास बात यह है कि उनके इस फैसले में उनका पूरा परिवार शामिल है. सभी को उनके फैसले पर गर्व भी है. शिक्षक विजय कुमार चंदसोरिया जो कि एक गरीब परिवार मे जन्मे और दूध बेचकर रिक्शा चलाकर अपना गुजारा कर अपनी पढ़ाई-लिखाई पूरी की थी और साल 1983 में रक्सेहा में सहायक शिक्षक के पद पर पदस्थ हुए थे. वह करीब 39 साल तक गरीब बच्चों के बीच रहे और उन्हें हमेशा ही अपनी सैलरी से उपहार और कपड़े देते रहे. उपहार पाकर बच्चों के चेहरे की खुशी देखकर उन्हें यह प्रेरणा मिली.

चंसोरिया ने कहा कि मेरे मन मे गरीब बच्चो के बेहतर स्वास्थ तथा शिक्षा का शुरू से भाव रहा है. उक्त राशि सहयोग के रूप मे कारगर बनेगी तथा उनका भविष्य उज्जवल होगा. इस संबंध मे मेने अपनी पत्नी तथा दोनो बच्चो एक बच्ची से सलाह लेकर उक्त राशि दान कर दी. मेरा बेटा ईश्वर की कृपा से नौकरी में है और बेटी की शादी हो चुकी है. सबकी सलाह से यह फैसला लिया है.