punjab Assembly Elections : AAP के CM फेस मान की चुनौती कहा ‘मुख्यमंत्री चन्नी मेरे खिलाफ धुरी से लड़ें चुनाव’

राष्ट्रीय

आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भगवंत मान ने चरणजीत सिंह चन्नी को चुनौती दी है. मान ने कहा है कि अगर हिम्मत है तो पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी धुरी सीट से मेरे खिलाफ चुनाव लड़ लें. भगवंत मान ने कहा कि मैं चमकौर साहिब (चरणजीत चन्नी का निर्वाचन क्षेत्र) से नहीं लड़ सकता, क्योंकि यह एक आरक्षित सीट है, लेकिन वह धुरी से लड़ सकते हैं. मैं उनका स्वागत करता हूं.

बता दें कि धुरी विधानसभा सीट संगरूर जिले में है जहां भगवंत मान सांसद हैं. एक फोन लाइन सर्वेक्षण में 93 प्रतिशत से अधिक लोगों ने उन्हें वोट दिया था, जिसके बाद 18 जनवरी को उन्हें पार्टी का मुख्यमंत्री पद का चेहरा घोषित किया गया था. फिलहाल, धुरी विधानसभा सीट से कांग्रेस के दलवीर सिंह खंगुरा वर्तमान में विधायक हैं. इस सीट पर कड़ी टक्कर देखने को मिल सकती है, क्योंकि 2012 के बाद से इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा रहा है. उस वक्त कांग्रेस के अरविंद खन्ना ने जीत हासिल की थी.

पंजाब के पूर्व मुख्यंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भाजपा से गठबंधन के बाद शनिवार को आज तक को पहला एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया. आज तक से बात करते हुए कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि मेरे कार्यकाल में भी अवैध रेत खनन का मामला सामने आया था. मैं सतलुज के ऊपर से अपने प्लेन से जा रहा था, नीचे रेत खनन चल रहा था. मैंने जांच करवाई थी. रेत का मसला मुझसे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूछा था. उन्होंने मुझसे पूछा था कि आप इसे रोकने के लिए क्या करने वाले हैं. तब मैंने उनसे पूछा था कि आप बता दीजिए क्या एक्शन लेना है. क्योंकि ये शुरू होगा तो नीचे से ऊपर तक जाएगा.

कैप्टन ने आगे कहा कि सोनिया ने मुझसे पूछा था कि रेत खनन में कौन-कौन शामिल है. मैंने उन्हें बताया था कि इसमें नीचे से ऊपर तक सब शामिल हैं. मेरी यह गलती है कि मैंने अपने कार्यकाल में इन पर कार्रवाई नहीं की.चरणजीत सिंह चन्नी से सवाल पूछे जाने चाहिए. चन्नी भी रेत खनन में शामिल हैं. कई विरष्ठ मंत्री भी इसमें मिले हुए हैं. पंजाब में माफिया हावी हैं और उसमें हमारे मंत्रियों का भी हिस्सा शामिल रहता है.

कैप्टन ने चन्नी पर लगाए गए मीटू के आरोपों पर बताया कि एक दिन मैं अपने घर पहुंचा. रोपड़ की महिला एसडीएम, अपने पति के साथ मेरे घर आईं. उन्होंने कहा कि चन्नी उन्हें फोन कर रात में परेशान करते हैं. मैंने चन्नी को फोन किया और कहा कि आप यहां आइए बात करनी है. पहले वे मुकर गए, लेकिन बाद में गलती मानकर चन्नी ने माफी मांग ली. जब कैप्टन से पूछा गया कि उन्होंने उस समय ये मुद्दा क्यों नहीं उठाया था तो उन्होंने कहा कि उस समय मामला खत्म हो गया था. चन्नी ने माफी मांग ली थी.

बता दें कि पंजाब विधानसभा चुनाव का नया शेड्यूल जारी किया गया है. पंजाब में अब 25 जनवरी को नामांकन प्रक्रिया शुरू होगी, जबकि 1 फरवरी को नामांकन का अंतिम दिन होगा. 2 फरवरी को नामांकन पत्रों की जांच होगी. वहीं 4 फरवरी नाम वापसी का अंतिम दिन है. पूरे पंजाब के 117 विधानसभा सीटों पर एक ही चरण में 20 फरवरी को मतदान होगा जबकि 10 मार्च को मतगणना होगी. 16 फरवरी को श्री गुरु रविदास जी की जयंती है, जिसके चलते पंजाब से लाखों श्रद्धालु गुरु के जन्मस्थान के दर्शन के लिए उत्तर प्रदेश के बनारस में जाते हैं. ऐसे में चुनाव टालने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनाव आयोग से अपील की थी.