यूक्रेन के खिलाफ युद्ध से इनकार करने वाले सैनिकों को फांसी दे रहा है रूस.. अमेरिका का दावा

अंतरराष्ट्रीय

इजराइल और हमास युद्ध के बीच रूस और यूक्रेन की जंग अभी तक खत्म नहीं हुई है। रूसी राष्ट्रपति पुतिन यूक्रेन के साथ लंबी जंग लड़ रहे हैं। इसी बीच अमेरिका ने ऐसा सनसनीखेज दावा किया है, जिससे दुनिया हैरान हो गई है। अमेरिका ने यूक्रेन और रूस की जंग के बीच दावा करते हुए ये आरोप लगाया है कि इस जंग में जो सैनिक अपने वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों का आदेश नहीं मान रहे हैं या आदेश से पीछे हट रहे हैं, उनकी हत्या की जा रही है।

रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन की सेना पर अमेरिका का यह नया आरोप है, जिसके बाद माना जा रहा है कि दोनों देशों के बीच नए सिरे से बयानबाजी शुरू हो सकती है। गुरुवार को व्‍हाइट हाउस में हुई प्रेस ब्रीफिंग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्‍ता जॉन किर्बी ने ये आरोप रूस पर लगाए हैं। अमेरिकी मैगजीन फोर्ब्‍स ने प्रवक्‍ता किर्बी के हवाले से लिखा कि अमेरिका के पास ऐसी पुख्‍ता जानकारी है कि यूक्रेन की तरफ से गोलीबारी में पीछे हटने की कोशिश करने पर रूस के कमांडर पूरी यूनिट को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। उनका कहना था कि रूस ने अपने नए हमले में ‘हजारों लोगों को नुकसान पहुंचाया है जिनमें से कुछ तो अपने ही नेता के आदेश पर किया गया है।

किर्बी ने कहा कि सिर्फ खराब ट्रेनिंग पाने वाले सैनिकों को ही जंग में भेजा जा रहा है। अभी तक रूसी दूतावास ने इस पर कोई भी टिप्‍पणी नहीं की है। किर्बी ने कहा कि इस तरह का व्यवहार इस बात को और मजबूत करता है कि रूस अपने सैनिकों के जीवन का जरा भी सम्‍मान नहीं करता है। उन्होंने इन फांसी को निंदनीय और बर्बर बताया। किर्बी का कहना था कि रूस के सैनिक रूसी सैन्य रैंकों के भीतर इस तरह की असक्रिय भागीदारी के बावजूद, किर्बी ने रूस के नए हमले को ऐसे रिमाइंडर के तौर पर करार दिया है कि किस तरह से राष्‍ट्रपति पुतिन पूरे यूक्रेन पर कब्‍जा करने की अपनी आकांक्षाओं को नहीं छोड़ पा रहे हैं।

यूक्रेन और रूस की जंग डेढ़ साल से अधिक समय से जारी है। इस दौरान कभी रूस का पलड़ा भारी रहता है तो कभी यूक्रेन का। यूक्रेन को अमेरिका और पश्चिमी देशों का साथ मिला है। ऐसे में यूक्रेन रूस पर पलटवार भी कर रहा है। यूक्रेन ने क्रेमलिन पर भी ड्रोन दागे हैं। वहीं रूसी मिसाइलों के अटैक को भी नष्ट किया है।