भारत के पड़ोसी देश चीन में हालात बद से बदतर तेजी से बढ़ रहा कोरोना

राष्ट्रीय

मौजूदा समय में भारत समेत कई देशों में कोरोना वायरस के कम केस देखने को मिल रहे हैं, लेकिन भारत के पड़ोसी देश चीन में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं. चीन में कोरोना का जमकर कहर देखने को मिल रहा है. इस देश ने ‘जीरो कोविड पॉलिसी’ (Zero Covid Policy) लागू की है, लेकिन वह भी अभी तक फेल ही नजर आ रही है. बुधवार को यहां 20 हजार से ज्‍यादा कोरोना मामले दर्ज किए हैं. महामारी की शुरुआत के बाद से एक दिन में रिपोर्ट की जाने वाले दैनिक मामलों की यह सर्वाधिक संख्या है. हैरानी वाली बात यह है कि चीन ने कई राज्‍यों में लॉकडाउन लगा रखा है, लेक‍िन इसके बावजूद केस बढ़ने से लोग टेंशन में हैं.

बता दें कि मार्च तक चीन ने लॉकडाउन, ग्रुप टेस्टिंग और अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर सख्त प्रतिबंधों के साथ दैनिक मामलों को कंट्रोल कर रखा था. लेकिन मौजूदा समय में इसमें बेतहाशा वृद्धि देखने को मिली है. चीन में बुधवार को संक्रमण के 20,472 केस दर्ज किए गए हैं. हालांकि, राहत की बात यह है कि किसी भी मरीज की जान नहीं गई है. लॉकडाउन में रहे रहे लोगों से कहा गया है कि वे रोजाना कोविड-19 की जांच करें, घर में मास्क लगाने समेत एहतियाती उपाय करें और परिवार के सदस्यों के नजदीक जाने से बचें.

शंघाई में स्थिति ‘बेहद गंभीर’
शहर के एक अधिकारी ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि शंघाई शहर में स्थिति ‘बेहद गंभीर’ बनी हुई है. यही वजह है कि शहर को पिछले हफ्ते दो चरणों में बंद कर दिया गया. शंघाई में कोरोना के संक्रमण पर लगाम लगाने में संघर्ष कर रहे चीन ने देशभर से 10,000 से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को अपने सबसे बड़े शहर रवाना किया. इनमें 2,000 से अधिक सैन्य चिकित्साकर्मी भी शामिल हैं. शंघाई में दो चरण वाले लॉकडाउन के सोमवार को दूसरे सप्ताह में प्रवेश करने के बीच शहर के 2.6 करोड़ बाशिंदों की सामूहिक कोविड-19 जांच हो रही है.

सोशल मीडिया पर लोग कर रहे लॉकडाउन की श‍िकायत
कोरोना महामारी के चलते लॉकडाउन झेलने को मजबूत लोगों से कहा गया है कि वे मास्क लगाने समेत एहतियाती उपाय करें. इससे पहले वुहान में 76 दिन का लॉकडाउन लगाया गया था, लेकिन वहां लोगों को इसे लेकर ज्यादा शिकायतें नहीं थी, लेकिन शंघाई में कई लोग इसकी शिकायतें कर रहे हैं. वे सोशल मीडिया पर अपनी परेशानियां बता रहे हैं. बता दें कि चीन में कोविड के मामले बढ़ने के बावजूद 20 मार्च के बाद संक्रमण के कारण किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है. बता दें कि देश में अबतक 4,638 लोगों की कोविड से मौत हो चुकी है. इसके अलावा चीन दुनिया के सर्वाधिक टीकाकरण करने वाले देशों में शामिल है. चीन में 88% से अधिक आबादी को कोरोना वैक्सीन की डबल डोज लग चुकी है.