वो खूंखार Bollywood Villains जिनका पर्दे पर रहा दबदबा, आज कहां हैं ये खलनायक?

मनोरंजन

फिल्मी दुनिया में हीरो बनने की ख्वाहिश लेकर तो लाखों लोग मुंबई आए, लेकिन एक विलेन बनने की चाह किसी-किसी के अंदर ही देखने को मिली. फिल्म में एक हीरो होता है और एक विलेन. अक्सर फिल्मों में देखा गया है कि जितना महत्व एक हीरो का होता है, उतना ही एक विलेन का भी होता है. फिल्म इंडस्ट्री में विलेन्स की कभी कमी नहीं रही है. कई मशहूर विलेन हैं जिनकी खलनायिकी का डंका आज तक बजता है. 90 के दशक में बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक विलेन हुए, जिन्होंने अपनी दमदार परफॉर्मेंस से फिल्म के हीरो तक को फेल कर दिया. आज वे कहां हैं और क्या कर रहे हैं, यह जानते हैं…

शक्ति कपूर

शक्ति कपूर को तो बॉलीवुड का बैड ब्वॉय कहा जाता है. सुपरहिट फिल्म ‘तोहफा’ में डायलॉग… ‘आउ लोलिता’ इतना पॉपुलर हुआ कि स्कूल, कॉलेज के छात्रों के बीच यह एक ट्रेंड बन गया. जल्द ही शक्ति कपूर भोजपुरी फिल्म में नजर आने वाले हैं.

रंजीत

रंजीत अपने जमाने में बहुत मशहूर थे. रंजीत ने अपने फिल्मी करियर में 200 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया. आखिरी बार इन्हें साल 2012 में फिल्म ‘हाउसफुल 2’ में देखा गया था. इस समय वह इंडस्ट्री में एक्टिव नहीं हैं. साल 2021 में इन्हें कपिल शर्मा के कॉमेडी शो में हंसी के ठहाके लगाते हुए देखा गया था.

प्रेम चोपड़ा

‘प्रेम नाम है मेरा, प्रेम चोपड़ा’ इस डायलॉग को कौन नहीं जानता. प्रेम चोपड़ा को विलेन का ‘बाप’ कहा जाता था. हाल ही में वह दुबई के एक इवेंट में राखी सावंत संग वीडियो में देखे गए थे.

दलीप ताहिल

प्यार को नाकामयाब करने में अगर किसी विलेन को याद किया जाता है तो सबसे पहला नाम आता है दलीप ताहिल का. दलीप ताहिल को ‘बाजीगर’, ‘राजा’, ‘इश्क’, ‘कयामत से कमायत’ तक में विलेन बनते देखा गया है. आखिरी बार यह फिल्म ‘मेरे देश की धरती’ में देखे गए.

गुलशन ग्रोवर

गुलशन ग्रोवर का नाम बॉलीवुड के मशहूर विलेन की लिस्ट में शुमार है. ‘बैडमैन’ अक्सर फिल्मों में छिछोरी हरकतें भी करते नजर आए हैं. साल 1980 से अबतक इन्होंने कुछ 400 से ज्यादा फिल्में की हैं. आखिरी बार इन्हें रोहित शेट्टी की फिल्म ‘सूर्यवंशी’ में देखा गया.

मैक मोहन

फिल्म ‘शोले’, ‘सत्ते पे सत्ता’ और ‘कर्ज’ जैसी सफल फिल्में देने वाले मैक मोहन ने अपने विलेन किरदार से दर्शकों के बीच पहचान बनाई. मैक मोहन आए तो क्रिकेटर बनने थे, लेकिन किस्मत ने उन्हें विलेन बनाकर छोड़ा. हालांकि, आज वह इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन इनकी फिल्मों में निभाए किरदार फैन्स के दिलों में जिंदा हैं.

आशुतोष राणा

आशुतोष राणा ने फिल्म ‘संघर्ष’ में लज्जा शंकर पांडे की भूमिका अदा की थी, जिसके बाद वह विलेन के किरदार में दर्शकों के दिल में उतर गए. हाल ही में इन्हें वेब सीरीज ‘आराण्यक’ में देखा गया.

अमजद खान

फिल्म ‘शोले’ के गब्बर को भला कौन भूल सकता है. जय और वीरू की जोड़ी के साथ गब्बर भी खूब मशहूर हुए थे. विलेन का इनका रोल काफी पॉपुलर हुआ था. हालांकि, साल 1992 में इनका दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था.

अमरीश पुरी

‘मोगैंबो खुश हुआ’, यह डायलॉग 80-90 के दशक के यंगस्टर्स ने खूब सुना है. उनके मुंह पर भी यह चढ़ा नजर आता है. अमरीश पुरी ने यह डायलॉग बोला था. बॉलीवुड के सबसे सफल खलनायकों में यह शुमार रहे. विलेन के अपने किरदार से इन्होंने बड़े से बड़े हीरो की बड़े पर्दे पर छुट्टी की. साल 2005 में इनका ब्रेन ट्यूमर के कारण निधन हो गया था.