अब नहीं चलेगी ट्रैफिक पुलिस की मनमानी, जबरदस्ती गलत चालान काटे तो करें ये काम

Feature Latest

अगर आप कोई कार, मोटरसाइकिल या स्कूटर लेकर सड़क पर निकलते हैं तो आपको यातायात नियमों का अच्छी तरह से पालन करना चाहिए. अगर आप यातायात नियमों का पालन नहीं करते हैं तो ट्रैफिक पुलिस आपका चालान काट सकते है. ऐसे में दो स्थितियां होता हैं, पहली- ट्रैफिक पुलिस और आप, दोनों इस बात पर सहमत हैं कि आपने यातायात नियमों का उल्लंघन किया है और दूसरी स्थिति है कि पुलिस और आप सहमत नहीं है. आपको लगता है कि आपने यातायात नियम का उल्लंघन नहीं किया है जबकि पुलिस कहती है कि आपने उल्लंघन किया है. इस स्थिति में अगर पुलिस आपके साथ जबरदस्ती करती है और आपका चालान काट देती है तो आपको क्या करना चाहिए, चलिए यह बताते हैं.

बड़े अधिकारी से शिकायत करें
अगर सड़क पर चलते वक्त ट्रैफिक पुलिस के साथ कोई ऐसी स्थिति बनती है तो आप यह न समझें कि अब आप मजबूर हैं. आपके पास बड़े अधिकारियों से शिकायत करने का विकल्प है. अगर कोई ट्रैफिक पुलिसकर्मी आपके साथ जबरदस्ती करता है और आपका गलत चालान काटता है तो आप संबंधित विभाग के शीर्ष अधिकारी से शिकायत कर सकते हैं. अगर आप औपचारिक तौर पर शिकायत करना चाहते हैं तो आप इसे लिखित में दे सकते हैं. इसके अलावा जानकारी देने के तौर पर कॉल भी कर सकते हैं. विभाग के अधिकारियों का नंबर आपको आपके प्रदेश के पुलिस विभाग की आधिकारिक वेबसाइट से मिल जाएगा.

ट्रैफिक पुलिस सेल से संपर्क करें
गलत चालान काटे जाने की स्थिति में करीबी ट्रैफिक पुलिस सेल में जाना चाहिए और संबंधित अधिकारी से बात करनी चाहिए. आप उन्हें पूरी बात विस्तार से बताएं और उन्हें समझाएं कि आपका चालान गलत है. अगर वह आपकी बात मान जाता है, तो वहां से भी आपका चालान वापस रद्द कर दिया जाता है लेकिन अगर उन्हें लगता है कि आपका चालान सही कटा है तो वह चालान का रद्द नहीं करते हैं. आपकी शिकायत के आधार पर आपके साथ जबरदस्ती करने वाले पुलिसकर्मी पर कार्रवाई भी की जा सकती है.

कोर्ट में चालान को चैलेंज करें
इसके बाद आपके पास कोर्ट जाने का भी रास्ता होता है. चालान को आप कोर्ट में चैलेंज कर सकते हैं, जहां आप अपनी बात रखेंगे और कोर्ट को बताएंगे कि आप किस वजह से उस चालान को चैलेंज कर रहे हैं. कोर्ट में आपको बताना होगा कि आपकी ओर से कोई भी गलती नहीं की गई है और पुलिस ने गलतफहमी में या किसी और कारण से आपका चालान काटा है. अगर कोर्ट यह मान लेता है तो वह चालान रद्द कर देगा और आपको उसे भरने की जरूरत नहीं होगा.