Ukraine War:मारीयुपोल में सड़कों पर कालीन की तरह लाशें

राष्ट्रीय

यूक्रेन के उप रक्षा मंत्री हन्ना मलयार ने मंगलवार को कहा कि यूक्रेन उन जानकारियों की जांच कर रहा है, जिसमें यह आशंका जताई जा रही है कि रूस ने दक्षिणी यूक्रेनी बंदरगाह शहर मारियुपोल को घेरते हुए रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा, “एक थ्योरी है कि ये फॉस्फोरस हथियार हो सकते हैं।” मलयार ने टेलीविजन बयान में कहा, “आधिकारिक जानकारी बाद में आएगी।”

रूस के रक्षा मंत्रालय ने इस पर कोई जवाब नहीं दिया। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने सोमवार को चेतावनी दी कि रूस यूक्रेन में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल कर सकता है।

ब्रिटेन और अमेरिका ने कहा है कि वे उन रिपोर्टों से अवगत हैं कि रूस ने पहले ही मारियुपोल में रासायनिक एजेंटों का इस्तेमाल किया हो सकता है। ब्रिटेन ने कहा कि वह रिपोर्टों को वैरिफाई करने के लिए सहयोगियों के साथ काम कर रहा है। रूस पहले भी यूक्रेन पर बिना सबूत मुहैया कराए रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल की तैयारी करने का आरोप लगा चुका है।

मारियुपोल में 10 हजार से ज्यादा नागरिकों की मौत

मारियुपोल के मेयर वादिम बॉयचेंको ने इस बात का दावा किया कि रूसी सेना शहर में पिछले छह हफ्ते से लगातार हमले कर रही है, जिसमें अब तक 10 हजार से ज्यादा नागरिकों की मौत हो चुकी है। हालात इतने खराब हैं कि शहर में लोगों की लाशें सड़कों पर कालीन की तरह बिछी हुई हैं।

इस बीच, पश्चिमी देशों का कहना है कि अत्याधुनिक हथियारों से लैस रूसी सेना का एक काफिला यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में बढ़ रहा है और वहां एक बड़ा हमला होने की आशंका है।

मारियुपोल में पिछले छह हफ्ते के दौरान सबसे भीषण हमले हुए हैं और यहां आम नागरिकों को बेहद मुश्किल हालात का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, मारियुपोल पर कब्जा करने के लिए रूसी सेना की तरफ से किए गए चौतरफा हमलों के बाद शहर की मौजूदा परिस्थितियों के बारे में सीमित जानकारी है।

समाचार एजेंसी द एसोसिएटेड प्रेस के साथ सोमवार को फोन पर बात करते हुए शहर के मेयर वादिम बॉयचेंको ने रूसी सैनिकों पर बाहरी दुनिया से इस नरसंहार को छिपाने और मानवीय सहायता लेकर आ रहे काफिले को कई हफ्तों तक शहर में प्रवेश करने से रोकने का आरोप लगाया है।

वादिम बॉयचेंको के मुताबिक रूसी हमले में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 20 हजार तक पहुंच सकती है। उन्होंने यूक्रेन के कुछ अधिकारियों के हवाले से कहा कि रूसी सेना हमले में मारे गए लोगों की लाशों को ठिकाने लगाने के लिए मारियुपोल में अंतिम संस्कार संबंधी उपकरण भी लेकर आई है।